How To Do SEO Audit

एसईओ ऑडिट आपकी वेबसाइट के खोज इंजन अनुकूलन (एसईओ) प्रदर्शन का एक व्यापक मूल्यांकन है। यह आपको उन क्षेत्रों की पहचान करने में मदद करता है जहां आपकी वेबसाइट खोज इंजन परिणाम पृष्ठों (एसईआरपी) में अपनी रैंकिंग में सुधार कर सकती है।एसईओ ऑडिट कैसे करें, इसके बारे में चरण-दर-चरण मार्गदर्शिका यहां दी गई है:

1. अपनी जानकारी इकट्ठा करें:

अपना ऑडिट शुरू करने से पहले, अपनी वेबसाइट और उसके वर्तमान एसईओ प्रदर्शन के बारे में कुछ जानकारी इकट्ठा करना महत्वपूर्ण है। इसमें आपकी वेबसाइट का URL, डोमेन अथॉरिटी और बैकलिंक प्रोफ़ाइल शामिल है। इस जानकारी को इकट्ठा करने के लिए आप Google सर्च कंसोल, अहेरेफ़्स और सेमरश जैसे टूल का उपयोग कर सकते हैं।

2. साइट क्रॉल चलाएँ:

साइट क्रॉल वह जगह है जहां सॉफ़्टवेयर SEO समस्याओं का पता लगाने के लिए आपकी वेबसाइट को स्कैन करता है। साइट क्रॉल चलाने के लिए आप स्क्रीमिंग फ्रॉग या साइटबल्ब जैसे टूल का उपयोग कर सकते हैं। क्रॉल टूटे हुए लिंक, डुप्लिकेट सामग्री और गायब मेटा विवरण जैसे मुद्दों की पहचान करेगा।

3. अनुक्रमण संबंधी समस्याओं की जाँच करें:

जो पृष्ठ अनुक्रमित नहीं हैं वे Google के डेटाबेस में नहीं हैं और इसलिए खोज परिणामों में रैंक नहीं करेंगे। इंडेक्सिंग संबंधी समस्याओं की जांच के लिए आप Google सर्च कंसोल का उपयोग कर सकते हैं।

4. अपनी साइट के डुप्लिकेट संस्करणों की जाँच करें:

यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि Google आपकी साइट के केवल एक संस्करण को अनुक्रमित कर रहा है। आप अपनी साइट के डुप्लिकेट संस्करणों की जांच के लिए स्क्रीमिंग फ्रॉग जैसे टूल का उपयोग कर सकते हैं।

5. अपनी साइट की गति का विश्लेषण करें:

वेबसाइट की गति Google के लिए एक रैंकिंग कारक है, इसलिए यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि आपकी साइट तेज़ी से लोड हो रही है। आप अपनी साइट की गति का विश्लेषण करने के लिए Google PageSpeed Insights और Pingdom जैसे टूल का उपयोग कर सकते हैं।

6. अपनी मुख्य वेब महत्वपूर्ण बातों का विश्लेषण करें:

कोर वेब वाइटल्स मेट्रिक्स का एक समूह है जिसका उपयोग Google किसी वेबसाइट के उपयोगकर्ता अनुभव को मापने के लिए करता है। इन मेट्रिक्स में सबसे बड़ा कंटेंटफुल पेंट (एलसीपी), पहला इनपुट विलंब (एफआईडी), और संचयी लेआउट शिफ्ट (सीएलएस) शामिल हैं। आप अपने मुख्य वेब वाइटल का विश्लेषण करने के लिए Google सर्च कंसोल जैसे टूल का उपयोग कर सकते हैं।

7. अपने आंतरिक लिंक का विश्लेषण करें:

आंतरिक लिंक आपकी वेबसाइट के एक पेज से दूसरे पेज के लिंक होते हैं। वे Google को आपकी वेबसाइट की संरचना को समझने में मदद करते हैं और आपकी वेबसाइट की रैंकिंग में सुधार कर सकते हैं। आप अपने आंतरिक लिंक का विश्लेषण करने के लिए Ahrefs जैसे टूल का उपयोग कर सकते हैं।

8. अपना ऑर्गेनिक ट्रैफ़िक जांचें:

ऑर्गेनिक ट्रैफ़िक वह ट्रैफ़िक है जो खोज इंजन से आपकी वेबसाइट पर आता है। आप अपना ऑर्गेनिक ट्रैफ़िक जांचने के लिए Google Analytics का उपयोग कर सकते हैं।

9. अपने प्रतिस्पर्धियों के विरुद्ध बेंचमार्क:

अपने प्रतिस्पर्धियों के विरुद्ध बेंचमार्किंग से आपको उन क्षेत्रों की पहचान करने में मदद मिल सकती है जहां आपकी वेबसाइट सुधार कर सकती है। आप अपनी वेबसाइट को अपने प्रतिस्पर्धियों के मुकाबले बेंचमार्क करने के लिए सेमरश और अहेरेफ़्स जैसे टूल का उपयोग कर सकते हैं।

10. वे कीवर्ड खोजें जिन्हें आप भूल रहे हैं:

ऐसे कीवर्ड हो सकते हैं जिन्हें आप लक्षित नहीं कर रहे हैं जो आपके व्यवसाय के लिए प्रासंगिक हैं और जिनके लिए आप रैंकिंग कर सकते हैं। जिन कीवर्ड को आप मिस कर रहे हैं उन्हें ढूंढने के लिए आप अहेरेफ़्स और सेमरश जैसे टूल का उपयोग कर सकते हैं।

11। छूटे हुए बैकलिंक अवसर खोजें:

बैकलिंक अन्य वेबसाइटों से आपकी वेबसाइट के लिंक हैं। वे Google के लिए एक संकेत हैं कि आपकी वेबसाइट आधिकारिक है। छूटे हुए बैकलिंक अवसरों को खोजने के लिए आप अहेरेफ़्स और सेमरश जैसे टूल का उपयोग कर सकते हैं।

12. अपने शीर्ष पृष्ठों का ऑडिट करें और उनमें सुधार करें:

आपके शीर्ष पृष्ठ आपकी वेबसाइट के वे पृष्ठ हैं जो सबसे अधिक ट्रैफ़िक प्राप्त करते हैं। यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि ये पृष्ठ SEO के लिए अनुकूलित हैं। आप अपने शीर्ष पृष्ठों का ऑडिट करने और उन्हें बेहतर बनाने के लिए स्क्रीमिंग फ्रॉग और अहेरेफ़्स जैसे टूल का उपयोग कर सकते हैं।

13. अपनी रैंकिंग पर नज़र रखें:

अपनी प्रगति पर नज़र रखने के लिए खोज परिणामों में अपनी वेबसाइट की रैंकिंग पर नज़र रखना महत्वपूर्ण है। आप अपनी रैंकिंग पर नज़र रखने के लिए Google सर्च कंसोल, अहेरेफ़्स और सेमरश जैसे टूल का उपयोग कर सकते हैं।

इन चरणों का पालन करके, आप अपनी वेबसाइट का व्यापक एसईओ ऑडिट कर सकते हैं और उन क्षेत्रों की पहचान कर सकते हैं जहां आप सुधार कर सकते हैं। इससे आपको अपनी वेबसाइट का ट्रैफ़िक बढ़ाने, खोज परिणामों में उसकी रैंकिंग सुधारने और अधिक लीड और बिक्री उत्पन्न करने में मदद मिलेगी।

Leave a Comment